उत्तर प्रदेश के सभी सरकारी स्कूलों में अब पढ़ाया जाएगा बाबा गोरखनाथ का पाठ

गोरखपुर : जब से योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री बने हैं तब से योगी के शहर गोरखपुर को एक नई पहचान मिल रही है और वह लगातार चर्चा का विषय भी बना रहा है।आपको बता दें कि अब उत्तर प्रदेश के सभी सरकारी स्‍कूलों में बाबा गोरखनाथ के बारे में पढ़ाया जाएगा। सरकारी स्कूलों के नए पाठ्यक्रम में अब उपन्‍यासकारों के साथ बाबा गोरखनाथ को भी शामिल किया गया है।

सरकारी स्कूलों के पाठ्यक्रम में बदलाव

सूत्रों अनुसार ज्ञात हुआ है कि सरकारी स्कूलों के कक्षा 6, 7 और 8 के पाठ्यक्रम में बदलाव किया गया है। पाठ्यक्रम में बदलाव करते हुए किताबों में बाबा गोरखनाथ, बाबा गंभीरनाथ समेत कई हस्तियों को स्थान दिया गया है। आपको बता दें कि अब जो किताबों की रंगीन छपाई हुई है वो बेहद आकर्षक लग रही है। वहीं पाठ्यक्रम में गुरु गोरखनाथ, बाबा गंभीरनाथ, स्वामी प्रणवानंद, शहीद पं. राम प्रसाद बिस्मिल, क्रांतिकारी बाबू बंधू सिंह की जीवनी को शामिल किया गया है। 

बेसिक शिक्षा अधिकारी भूपेन्‍द्र नारायण सिंह ने बताया

गोरखपुर के बेसिक शिक्षा अधिकारी भूपेन्‍द्र नारायण सिंह ने एक इंटरव्यू  के दौरान बताया है कि सरकारी स्कूलों में कक्षा 1 से 8 तक की 8 लाख से अधिक किताबें मंगाई जा चुकी हैं। साथ ही इन किताबों को बीआरसी केन्‍द्रों के माध्‍यम से विद्यालयों तक भेजने का कार्य शुरू हो गया है। वहीं उन्होंने बताया, ‘इस साल पाठ्यक्रम में भी कुछ बदलाव किए गए हैं.जैसे – गुरु गोरखनाथ को इस साल से कक्षा छह के महान व्यक्तित्व पुस्तक में शामिल किया गया है.’पुस्तक में पाठ छह के रूप में गुरु गोरखनाथ की जीवनी को जगह दी गई है। इसी किताब में गोरखपुर के चौरीचौरा क्षेत्र के महान क्रांतिकारी बाबू बंधू सिंह की जीवनी भी शामिल की गई है. इसके अलावा बच्‍चों को आल्‍हा-उदल, रानी अवंतीबाई के बारे में भी जानकारी प्राप्‍त करेंगे.

 पिछले साल 32 अध्‍याय, इस बार हो गए 38.

गौरतलब है कि सरकारी स्कूलों की कक्षा 6 की पुस्तक में पिछले साल 32 अध्‍याय थे।  लेकिन इस साल ये अध्‍याय बढ़कर 38 अध्‍याय हो गए हैं। इस बार  नई किताबों के हर पाठ पर क्यूआर कोड भी अंकित  किया गया है। ताकि इसको स्कैन कर शिक्षक उस पाठ से जुड़ी हर जानकारी अपने मोबाइल पर तुरंत प्राप्त कर सके।  वहीँ  बीएसए भूपेन्‍द्र नारायण सिंह ने बताया कि पुस्‍तकों के साथ ही स्‍कूल ड्रेस, कॉपी-किताब, बस्‍ते, जूते-मोजे के साथ बच्चों के लिए जरुरी अन्‍य सामान भी 15 जुलाई से पहले सभी सरकारी स्कूलों में उपलबध करा दिया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *