बुराड़ी में हुई एक साथ 11 मौत के राज में चल रहा है 11 का आंकड़ा

नई दिल्ली: दिल्ली के बुराड़़ी में दिल दहला देने वाला हादसा हुआ है। जी हाँ, दिल्ली के बुराड़ी में एक ही परिवार में 11 लोगों की मौत हुई है। इन 11 लोगों की मौत की गुत्थी अभी भी अनसुलझी है। हालाँकि शवों की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के मुताबिक,यह पता लगा है कि इन 11 लोगों की मौत फांसी के फंदे पर लटकने से हुई है। लेकिन पहले ये बताया जा रहा था कि इन 11 लोगों में से एक बुज़ुर्ग महिला की मौत गला दबाकर की गई है। लेकिन पुलिस प्रशासन और आसपास रहने वाले लोग इसे अंधविश्वास के चलते सामूहिक ख़ुदकुशी का नाम दे रहे हैं। वहीं भाटिया परिवार के रिश्तेदार और उनके करीबी लोग ये बात मानने को तैयार ही नहीं कि उन सभी लोगों ने एक साथ आत्महत्या की होगी।

भाटिया परिवार के रिश्तेदार इस घटना को सामूहिक हत्या बता रहे हैं। आपको बता दें कि इस मामले के दूसरे दिन बाद ही घर की दीवार में 11 पाइप लगे हुए मिले थे। साथ ही अब देखा गया है कि गेट के ऊपर लगे रोशनदान में भी केवल 11 एंगल लगी है

क्या है दीवार में लगे 11 पाइपों का राज

आपको बता दें कि दिल्ली के बुराड़ी में जिस घर में अचानक 11 लोगों की मौत हुई थी सोमवार के दिन उसी घर की दीवार पर 11 पाइप लगे हुए मिले थे। यह सभी पाइप एक साइज के नहीं है कोई छोटा है तो कोई बड़ा है। जो पाइप दीवार में लगे हुए हैं उन पाइपों से न तो पानी की कोई निकासी होती है और न ही एक साथ इतने पाइपों की वहां किसी प्रकार है। बस यही एक कारण है जिस वजह से इन मौतों के पीछे तंत्र-मंत्र से जुड़ा ऐंगल सामने आया था। इतना ही नहीं जब बड़ी ही बारीकी से खोज बीन की गई तो अब घर के मेन गेट पर 11 एंगल का रोशनदान सामने आया है।

हालांकि इस बात का अभी तक कोई खुलाशा नहीं हुआ है कि आखिर क्यों रोशनदान में 11 एंगल लगे हुए है। आपको बता दें कि घर की बाहरी दीवार पर जो 11 पाइप लगे हुए थे। इन 11 पाइपों में से 4 बड़े पाइप हैं जो एक दम सीधे हैं। 7 पाइपों का मुंह नीचे की तरफ झुका हुआ है। इनमें से एक पाइप सबसे दूर लगा है। यह पाइप बगल से एक खाली प्लाट की तरफ लगा हुआ है।

तंत्र-मंत्र या अध्यात्म के चलते हुआ हादसा

आशंका जताई जा रही है कि तंत्र-मंत्र या अध्यात्म के चलते इस तरह के पाइप इस तरह के हिसाब से लगाए गए हैं। जब कमरपाल नाम के उस ठेकेदार से बात की गई जो कि घर का निर्माण कार्य करवा रहा था। उसने बताया कि इस घर में पिछले 3 महीने से काम चल रहा था। पहले से घर का कोई भी नक्शा नहीं बनवाया था। घर का सारा काम ललित भाटिया के हिसाब से चल रहा था।जब हम उनसे किसी काम को करने की पूछते तो ललित सिर्फ इतना ही कहते की घर वालों करके दो तीन दिन बता दूंगा। वह हर बात की सलाह घर के छोटे छोटे बच्चों से भी लिया करते थे उनकी मर्जी भी जानने की कोशिश करते थे।

कमरपाल ने खोले कुछ राज

कमरपाल ने बताया कि घर में जो 11 पाइप लगे थे वो भी ललित के कहने पर ही लगवाए गए थे। हालांकि कमरपाल ने ये भी बताया कि उसने ललित से कहा था कि यहां पाइप की कोई जरूरत नहीं है। इस बात पर ललित ने कमरपाल से कहा कि तुमको जितना बोले जा रहा है तुम बस उतना करो कमरपाल ने पाइप की जगह खिड़की लगवाने की बात भी कही थी लेकिन इस बात पर ललित राजी नहीं हुआ।

मृतकों के नाम

आपको बता दें कि मृतकों की पहचान नारायण देवी (77), उनकी बेटी प्रतिभा (57) और दो बेटे भावनेश (50) और ललित भाटिया (45) के रूप में हुई है. भावनेश की पत्नी सविता (48) और उनके तीन बच्चे मीनू (23), निधि (25) और ध्रुव (15), ललित भाटिया की पत्नी टीना (42) और उनका 15 वर्ष का बेटा शिवम , प्रतिभा की बेटी प्रियंका (33) भी मृत मिले.आपको बता दें कि प्रियंका की पिछले महीने ही सगाई हुई थी और इस साल के अंत तक उसकी शादी होनी थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *