LIVE: पुलवामा हमले पर CCS बैठक खत्म, कार्यवाही की तैयारी में मोदी सरकार

आज की सुबह पूरे देश पर भारी है, कल रात कई आंखों को नींद नहीं आई. जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में गुरुवार की मनहूस दोपहर 3.37 बजे केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल यानि सीआरपीएफ के काफिले पर बीते चंद सालों का सबसे बड़ा आतंकी हमला हुआ. हमले में 37 बहादुर सीआरपीएफ के जवान शहीद हो गए. कई जवान अभी भी घायल बताए जा रहे हैं. जानकारी के मुताबिक अभी भी शहीद जवानों की संख्या पूरी तरह स्पष्ट नहीं हो पाई है.

कई जवानों के शव क्षत विक्षत अवस्था में हैं, इसलिए उनकी पहचान करपाना मुश्किल हो रहा है. जानकारी के मुताबिक जवानों की दो बसों और जीप इस हमले का शिकार हुई है. पाकिस्तान के आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इस हमले की जिम्मेदारी ली है. जैश का मुखिया आतंकी मसूद अजहर है जो पाकिस्तान में छिपा बैठा है. यानी एक बार फिर भारत पर हमले की साजिश पाकिस्तान की धरती पर ही रची गई. बता दें कि जिस गाड़ी से जवानों के काफिले पर हमला किया गया उसमें करीब 200 किलो विस्फोटक मौजूद था.

हमला जम्मू-कश्मीर में जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर पुलवामा के अवंतीपूरा में हुआ. जवानों से भरी गाड़ियां हाइवे से गुजर रही थीं उसी वक्त हमला हुआ और फिर गाड़ी में आग लग गई. बताया जा रहा है कि ब्लास्ट के बाद आतंकियों ने जवानों से भरी बस पर फायरिंग भी की. विस्फोट की वजह से जवानों से भरी बस के परखच्चे उड़ गए. हमले के बाद प्रशासन ने हाइवे को बंद कर दिया और घायल जवानों को तेजी से अस्पताल पहुंचाया.

हमले के बाद गुस्से में देश, कैबिनेट कमेटी ऑन सिक्योरिटी की बैठक
हमले के बाद पूरा देश गुस्से में है और इस कारयराना हरकत के लिए पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देने की मांग कर रहा है. सरकार की ओर से कहा गया है कि जवानों के खून की एक-एक बूंद का बदला आतंकियों से लिया जाएगा. हमले पर गृह मंत्रालय ने पीएमओ को रिपोर्ट सौंप दी है, इसमें कहा गया है कि पाकिस्तान से मसूद अजहर ने ये हमला करवाया है. NIA, NSG और CFSL की स्पेशल टीम आज हमले वाली जगह पर पहुंच रही है. सुबह सवा नौ बजे कैबिनेट कमेटी ऑन सिक्योरिटी की बैठक भी होगी, इसमें बड़े फैसले लिए जा सकते हैं. इसके साथ ही गृह मंत्री राजनाथ सिंह सुबह अधिकारियों के बड़े दस्ते के साथ 11 बजे श्रीनगर जा रहे हैं.

हमले पर भारते ने क्या कहा?
भारत सरकार की ओर से हमले की कड़ी निंदा की गई, सरकार की ओर से कहा गया कि पाकिस्तान समर्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने हमले को अंजाम दिया. जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को पाकिस्तान का संरक्षण और समर्थन मिला है.

भारत में आतंकी हमले करने के लिए पाकिस्तान ने मसूद अजहर को खुली छूट दे रखी है. राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए भारत हर जरूरी कदम उठाएगा. पाकिस्तान आतंकवादियों और आतंकी संगठनों का समर्थन करना बंद करे. संयुक्त राष्ट्र जैश-ए-मोहम्मद और मसूद अजहर समेत पाकिस्तान समर्थित आतंकियों पर बैन लगाए.

काफिले में थी 78 गांडियां और 2500 जवान
सीआरपीएफ के जिस काफिले पर हमला हुआ उसमें 78 गाड़ियां थीं, इनमें 2500 जवान जम्मू से श्रीनगर जा रहे थे. बताया जा रहा है कि आतंकियों को इस रूट पर जवानों की गाड़ियों के मूवमेंट की जानकारी पहले से थी और उसी का फायदा उठाते हुए आत्मघाती हमलावर ने इसे अंजाम दिया. जम्मू से करीब 262 किलोमीटर दूर ये हमला हुआ है. आतंकी हमले के बाद अवंतिपुरा में भगदड़ मच गई और फिर स्थानीय दुकानदारों ने जल्दी जल्दी अपनी दुकानें बंद कर दी.

आदिल अहमद डार नाम के आतंकी ने किया हमला
आदिल अहमद नाम के आतंकी ने इस हमले को अंजाम दिया. बताया जा रहा है कि पुलवामा का रहने वाला आदिल पिछले साल ही जैश ए मोहम्मद में शामिल हुआ था. आदिल विस्फोटकों से भरी गाड़ी लेकर हाइवे पर गया और फिर हमले को अंजाम दिया. आदिल आतंक की दुनिया में वकास कमांडो के नाम से भी जाना जाता था. बताया जा रहा है कि उसमें करीब 200 किलो विस्फोटक था. विस्फोटों को रिमोट कंट्रोल से उड़ाने का पूरा प्लान था और आतंकी आदिल ने भी ऐसा ही किया.

हमले पर क्या बोले प्रदानमंत्री नरेंद्र मोदी?
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस हमले को आतंकवादियों की घृणित कार्रवाई बताया है और कहा है कि जवानों की शहादत व्यर्थ नहीं जाएगी. पीएम मोदी ने अपने ट्वीट में कहा, ‘पुलवामा में सीआरपीएफ कर्मियों पर हमला घृणित है. मैं इस नृशंस हमले की कड़ी निंदा करता हूं. हमारे बहादुर सुरक्षाकर्मियों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा. पूरा देश बहादुर शहीदों के परिवारों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है. घायल जल्दी ठीक हों.’ उन्होंने कहा, ‘पुलवामा में हमले के मद्देनजर स्थिति को लेकर मैंने गृह मंत्री राजनाथ सिंह जी और अन्य शीर्ष अधिकारियों से बात की है.’

दुनिया भर के देशों ने की हमले की निंदा
फ्रांस, रूस, अमेरिका और इजराइल समेत कई देशों ने भारतीय जवानों पर हुए आतंकी हमले की निंदा की है. फ्रांस समेत इन देशों ने आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत का साथ देने की बात कही है. फ्रांस के विदेश मंत्री की ओर से जारी बयान में कहा गया, ”भारत पर हुए हमले की हम कड़े शब्दों में निंदा करते हैं. शहीद हुए सैनिकों के परिवारों के प्रति हमारी सहानुभूति है. हम इस मुश्किल वक्त में भारत के लोगों और सरकार के साथ हैं. आतंकवाद के खिलाफ इस लड़ाई में हम भारत का साथ हमेशा खड़े हैं.’

रूस ने भी इस हमले की निंदा की है. रूस के दूतावास की ओर से जारी बयान में कहा गया, ”हम कश्मीर के पुलवामा जिले में हुए भयावह आतंकवादी हमले की कड़ी निंदा करत हैं, जिसकी वजह 40 से अधिक सीआरपीएफ कर्मियों के बहुमूल्य जीवन का गंवाना पड़ा और कई लोग घायल हो गए.” रूस ने भी इस मुश्किल घड़ी में भारत का साथ देने की बात कही.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *