दिल्ली पुलिस ने किया बुराड़ी केस का खुलासा,सामने आये दिल दहला देने वाले राज

नई दिल्ली । 30 जून को दिल्ली के बुराड़ी में एक ऐसा हादसा हुआ जिसने सबकी दिमाग की घंटी बजा दी जी हाँ, शनिवार के दिन बुराड़ी में एक ही परिवार के 11 लोगों ने मौत को गले लगा लिया। इस केस में आज दिल्ली की पुलिस ने बड़ा खुलासा किया है। इस केश का खुलासा करने के लिए पुलिस के दिमाग में सिर्फ एक ही सवाल था कि आखिर कैसे एक ही परिवार के 11 लोग एक ही दिन मौत को गले लगा सकते हैं। आपको बता दें कि पुलिस ने इस आश्चर्यजनक केश का खुलासा एक सीसीटीवी फुटेज के आधार पर किया है। आप साफ़ साफ इस फूटेज में देख सकते हैं कि आखिर कैसे एक ही दिन एक ही परिवार लोग काल के गाल में समा गए।

सीसीटीवी फुटेज ने किया सब कुछ साफ़

आपको बता दें कि जो सीसीटीवी की फुटेज पुलिस को मिली है उस फुटेज में खुद भाटिया परिवार के सदस्य अपनी मौत का सामान लेकर जाते हुए नजर आ रहें हैं। इस फुटेज में आप साफ़ तौर से देख सकते हैं कि कैसे कोई स्टूल तो कोई तार ले जा रहा है। आपको बता दें किये वही सामान हैं जिसका प्रयोग फांसी लगाने के लिए किया गया था। इतना ही नहीं पुलिस की जांच में जो बातें सामने आई हैं। उनके मुताबिक, भाटिया परिवार के छोटे बेटे ललित ने परिवार के सभी सदस्यों ये सब करवाया है। ललित ने अपने पिता की आत्मा को खुश करने के लिए अपने साथ साथ अपने परिवार की आहुति दी है।

स्टूल और तार बने हथियार

भाटिया परिवार के घर के सामने जो घर है उसके बाहर कैमरे लगे हुए हैं। उन्ही कैमरे के फुटेज में देखा गया है कि 10:04 बजे ललित भाटिया की पत्नी टीना और भूपेंद्र की पत्नी श्वेता दुकान से स्टूल खरीद कर लेकर आई थीं। इसके बाद की फुटेज में घर के दो बच्चे तार लेकर घर के अंदर जाते नजर आ रहें हैं। आपको बता दें कि ये वही स्टूल और तार है जिनका प्रयोग आत्महत्या करने के लिए किया था। 30 जून से कई दिनों पहले की फुटेज में ललित पॉलिथीन में सामान लेकर घर जाता हुआ दिखाई दे रहा है।

11 रजिस्टर में मिले सारे राज

30 जून की रात दिल्ली के बुराड़ी में एक ही परिवार में हुई 11 मौतों ने सनसनी फैला दी। एक साथ इतनी मौतों कारण किसी को समझ नहीं आरहा था। पुलिस से लेकर क्राइम ब्रांच तक के ऑफिसर असमंजस थे। इस केश की हर एंगल से जांच की गई। वहीँ जब पुलिस ने जाँच कि तो घर से 11 रजिस्टर बरामद किये गए। उन 11 रजिस्टर में बीते 11 सालों से लिखा जा रहा था।आपको बता दें पुलिस को पहले से ही ललित पर शक था कि उसने ही परिवार को ख़ुदकुशी के लिए उकसाया होगा। ललित के द्वारा लिखी गई डायरी में जो बातें मिली हैं। वो इस पूरे केस से मिली झूली हैं। हालांकि रजिस्टर में आत्महत्या की बात नहीं थी, क्योंकि पूजा विशेष के बाद हाथ खोलने का भी जिक्र था।

<<<     बुराड़ी में हुई एक साथ 11 मौत के राज में चल रहा है 11 का आंकड़ा    >>>

ऐसी क्रिया जिससे गई जानें

पुलिस ने जाँच के दौरान जो बातें सामने आई हैं उनके मुताबिक सब कुछ एक्सीडेंटल हुआ। क्योंकि रजिस्टर में साफ़ साफ लिखा था कि इस प्रक्रिया को करने के बाद हाथ खोलने थे। भाटिया परिवार को उम्मीद थी कि ये सब करने के बाद से उनके पास शक्तियां का भंडार होगा। लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ। अन्धविश्वास के कारण भाटिया परिवार हमेशा दुनिया से चला गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *