ईद की ढेरों बधाइयाँ: देखिये आखिर क्या कारण है ईद उल-फितर मनाने का

ईद (Eid) यानि त्यौहार, ईद का शाब्दिक अर्थ है जश्न मनाना या खुशियाँ मनाना.आपको बता दें कि मुस्लिम धर्म में ईद का त्यौहार साल में दो बाद मनाया  जाता है। सबसे पहले आती है मीठी ईद जिसे हम लोग ईद उल-फितर (Eid al-Fitr) कहते है.

नई दिल्ली:  मुस्लमानों का सबसे बड़ा त्यौहार ईद होता है। ईद एक उर्दू भाषा का शब्द है। हिन्‍दी में ईद का अर्थ त्योहार होता है.जिस तरह हिन्दुओं में होली दिवाली रक्षाबंधन आदि पर्व होते है ठीक उसी तरह मुस्लिम धर्म में ईद मनाई जाती है। मुसलमानों के लिएये दिन बहुत ही शुभ और खुशियों से भरा होता है। इस दिन सभी मुस्लिम लोग नए कपड़े पहनते हैं अपने अपने घरों में विभिन्न प्रकार के व्यंजन बनाते हैं। और उसके बाद दरगाह जाकर खुदा की इबादत करते हैं.ऐसा नहीं हैं की सिर्फ मुसलमान ही ईद का जश्न मनाते हैं।

आज कल सभी धर्मों के लोग ईद के जश्न में बढ़-चढ़कर हिस्‍सा लेते हैं। ईद की खास बात यह है कि दूर आसमान में चमकने वाला चाँद  रमज़ान की आखिरी रात को तय करता है कि अगले दिन ईद होगी या नहीं.आपको बता दें कि इस बार भारत में केरल राज्य को छोड़कर ईद 16 जून को मनाई जा रही है. 

ईद से क्या आशय है

ईद का अर्थ है खुशियाँ मनाना .मुस्लिम धर्म में ईद साल में दो बार मनाई जाती है। साल में सबसे पहले मीठी ईद आती है  जिसे ईद उल-फितर कहते हैं और उसके बाद आती है बकरी ईद को ईद उल-जुहा कहा जाता है। मुस्लिम धर्म में रमज़ान का महीना होता है जिसमे मुस्लिम लोग 30 दिन के रोज़े रखते है यानि व्रत उसके बाद जो ईद होती है उसे मीठी ईद या  ईद-उल-फितर कहा जाता है। वहीं,बकरी ईद को रमज़ान खत्म होने के 70वें दिन मनाई जाती है। बकरी ईद को कुर्रबानी की ईद माना जाता है.

आखिर क्या है मीठी ईद मनाने का कारण

माना जाता है कि इस दिन पैगम्बर हजरत मुहम्मद ने बद्र के युद्ध में विजय हासिल की थी,और इसी खुशी में मीठी ईद या ईद उल-फितर मनाई जाती है. आपको बता दें कि कि पहली बार ईद उल-फितर 624 ईस्वी में मनाई गई थी।वही इस दिन सभी अपने अपने घरों में मीठे पकवान बनाते हैं और खाते हैं। वहीँ अपने से छोटों को ईदी भी दी जाती है।ईद के दिन दान देकर अल्लाह ताला को याद किया जाता है। ईद के दिन देने वाले दान को इस्लाम में फितरा कहते है। यही कारण है कि इस ईद को ईद उल-फितरभी कहते है।ईद के दिन सभी आपस में गले मिलकर अल्लाह से सुख-शांति और बरक्कत के लिए दुआएं मांगते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *